भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब निराशा मौत नहीं लगती / समीर बरन नन्दी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ दिन रात होते है - उदासी
बार- बार हाथ आती है - पूरी तरह ।

कुछ रातें होती है, देखती है आँखें -
कोर से धार गुपचुप ।

डर होता है क़दम उठाने से पहले की कही
तेरा अन्जाम वो न हो, मानकर ।

बैठ जाते है अपने ही भीतर पत्थर की तरह
फिर दिन के भीतर नशे का धुआँ भरता रहता हूँ ।

ऐसा उन चोरो से हमने पाया है
जो जाति ओर पार्टी का नाम लेकर
छा जाते हैं सामंत के दरबार में नचनियो की तरह
निराशा हमको निगलती रहती है ।

बिना धुएँ - जली रस्सी की ऐंठन के भीतर
जैसे आग छुपी रहती है ।
कुछ ऐसे भी दिन होते है -
जब निराशा मौत नहीं लगती ।