भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब बन जाती हूँ नन्हीं बच्ची / रंजना जायसवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं
एक समर्थ माँ
चलती हूँ उठाकर
ढेर-सी जिम्मेदारियाँ
घर और बाहर की
थक जाती हूँ जब
लेटकर कुछ क्षण
तुम्हारे पास
लिपटा लेती हूँ तुम्हें
तुम्हारी नन्हीं अंगुलियाँ
सहलाने लगती हैं
मेरे गालों और बालों को
तब अनायास
फुर्र हो जाती है थकान
बन जाती हूँ
मैं...एक नन्हीं बच्ची
और तुम...
मेरी माँ...।