भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब भी मैं जिन्दा होती हूँ / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी कभी,
जब भी मैं जिन्दा होती हूँ
आसपास में जो कुछ भी दिखने लगता है
बदसूरत सा हो जाता है।
इसके सड़ने
और गलने की
बदबू से
मेरा दम घुटने लगता है।
मेरी आँखें, कान, होंठ
सब जाने क्या करने लगते हैं
विद्रोही से हो जाते हैं
मेरा साथ छोड़ देते हैं
शायद मैं मरने लगती हूँ।
मरने में भी कैसा सुख है
मेरी आँखें, कान, होंठ
सब अपने से मतलब रखते हैं
बेवजह नहीं खुलते
और ज्यादातर बन्द रहते हैं
मेरे आसपास का सबकुछ
फिर अच्छा लगने लगता है।
जो है
जैसा भी है
पर मुझको मरने में आसानी है
खुद को कई बार परखा है
मैं मरने में खुश रहती हूँ
जाने क्यों
मैं कभी-कभी जिन्दा होती हूँ।