भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब रूख़-ए-हुस्न से नक़ाब उठा / एहसान दानिश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब रूख़-ए-हुस्न से नक़ाब उठा
बन के हर ज़र्रा आफ़्ताब उठा

डूबी जाती है ज़ब्त की कश्ती
दिल में तूफ़ान-ए-इजि़्तराब उठा

मरने वाले फ़ना भी पर्दा है
उठ सके गर तो ये हिजाब उठा

शाहिद-ए-मय की ख़ल्वतों में पहुँच
पर्दा-ए-नश्शा-ए-शराब उठा

हम तो आँखों का नूर खो बैठे
उन के चेहरे से क्या नक़ाब उठा

आलम-ए-हुस्न-ए-सादगी तौबा
इश्क़ खा खा के पेच-ओ-ताब उठा

होश नक़्स-ए-ख़ुदी है ऐ ‘एहसान’
ला उठा शीशा-ए-शराब उठा