भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब से गई है माँ मेरी / कुलवंत सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब से गई है माँ मेरी रोया नहीं.
बोझिल हैं पलकें फिर भी मैं सोया नहीं.

ऐसा नहीं आँखे मेरी नम हुई न हों,
आँचल नहीं था पास फिर रोया नहीं.

साया उठा है माँ का मेरे सर से जब,
सपनों की दुनिया में कभी खोया नहीं.

यादें न मिट जाएं मेरे दिल से कहीं,
बीतें हैं बरसों मन कभी धोया नहीं.

चाहत है दुनिया में सभी कुछ पाने की,
पायेगा तूँ कैसे वो जो बोया नहीं