भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब से मन मोहन बिछुरे हैं / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब से मन मोहन बिछुरे हैं,
भारी कसट परे हैं।
दिन ना चैन रात ना निंदिया,
खान-पान बिसरे हैं।
भूसन बसन सवह हम त्यागे-,
जे तन जात जरे हैं।
ईसुर स्याम सौत कुवजा पै,
जोगिन भेष धरे हैं॥