भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब हम मिले थे पियराते मौसम में / गीताश्री

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब हम मिले थे पियराते मौसम में
तब हवा का रुख हमारी ओर था,
ये आँखों का भ्रम था या हवा का रिवाज,
कि जब-जब मौसम पियराता है,
वह साथ खड़ी दिखाई देती है,
ठीक वैसे जैसे पकी फ़सल के पास,
खड़ी होती है किसानिन...
फ़सल को पता नहीं होता कि,
उखड़ने वाली है उसकी ज़मीन,
छिन जाने वाला है आकाश,
चन्दन, रोली के धुँधलाते चिह्नों में,
ऊपर से सुनहरी दिखती बालियों में
बस जाती हैं टिसती यादें, पियराई-सी..।