भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जय कन्हैया लाल की / प्रदीप शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जय हो महँगाई की
ठुमक ठुमक चाल की
जय कन्हैया लाल की

नदी गई सूख
शेषनाग मुँह छुपायें
किशन गेंद खेलने को
घर से न जायें
बह रहा पसीना
है गर्मी कमाल की
जय कन्हैया लाल की

आधी रात पैदा हुए
कान्हा कुनमुनाएं
वासुदेव क्लिनिक का
गेट खटखटाएं
शाम से ही गायब है
नर्स अस्पताल की
जय कन्हैया लाल की

नाश्ते में मक्खन की
बात नहीं करना
यूरिया से दूध अब
बनाए रामचरना
बची नहीं एको अब
गईय्या नंदलाल की
जय कन्हैया लाल की।