भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जय जय भोले / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शिव शंकर जा गुण ॻायो
अॼु खु़शीअ मां ताड़ियूं वॼायो

शिव जी जेको शेवा करे
भोले नाथ तंहिंजा भंडार भरे
हथ जोड़े सीस निवायो
अॼु खु़शीअ मां ताड़ियूं वॼायो

जो खीर जी लोटी चाढ़ींदो
शंकर दुख तंहिंजा टारींदो
हली भाव सां भोॻ लॻायो
अॼु खु़शीअ मां ताड़ियूं वॼायो

बम बम भोले भंडारी आ अहिड़ो
कोनाहे दयालू हुन जहिड़ो
‘निमाणी’ जो अर्जु अघायो
अॼु खु़शीअ मां ताड़ियूं वॼायो