भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जरमन तेरा जाइयो राज / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

जरमन तेरा जाइयो राज,

आज ना तडकै !

तन्ने मारे बिराने लाल

जहाज भर-भर के !

मैं किस पर करूँ सिंगार

कालजा धड़के!


भावार्थ

--'अरे जरमन ! तेरा राज ख़त्म हो जाए, आज ही या कल सुबह तक तू सत्ता में न रहे । अरे तूने कितने ही

पराए बेटों को मार डाला । वे हमारे पति थे जो जहाजों में भर-भर कर मोरचों पर ले जाए गए थे । हाय ! मैं

शृंगार करूँ भी तो कैसे ? मेरा तो कलेजा धड़क रहा है !'