भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जल भर ले हिलोरें हिलोर रसरिया रेशम की / अवधी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

जल भर ले हिलोरें हिलोर रसरिया रेशम की
अरर जल भर ले हिलोरे हिलोर ----
रेशम की रसरी तब नीकी ल़ागे
सोने की गगरिया होय --रसरिया रेशम की
सोने की गगरी तब नीकी लागे
सुघड़ महरिया होय ---रसरिया रेशम की
सुघड़ महरिया तब नीकी लागे
साथे में छैला होय ---रसरिया रेशम की
साथे म छैला तब नीको लागे
गोदी म ललना होय --रसरिया रेशम की
सुघड़ महरिया तब नीकी लागे
सत् रंग चुनरी हा---रसरिया रेशम की
सतरंग चुनरी तब मीको लागे
मखमल का लहंगा होय ---रसरिया रेशम की
मखमल का लहंगा तब नीको लागे
सब अंग गहना होय ----रसरिया रेशम की