भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जल भी चुके परवाने हो भी चुकी रुसवाई / शहजाद अहमद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जल भी चुके परवाने हो भी चुकी रुसवाई
अब खाक उड़ाने को बैठे हैं तमाशाई

अब दिल को किसी करवट आराम नहीं मिलता
एक उम्र का रोना है दो दिन की शनासाई

इक चोर छुपा बैठा है सीने की गुफा में
इस खौफ से इक उम्र हमें नींद न आई