भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जवान होती लड़की / रवि पुरोहित

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दालानी अमरबेल की
बढती लंबाई
लुकती-छिपती
झांकने लगी
टूटी खिड़की की
तराड़ से
पखाने के रोशनदान से,
आगंतुक के स्वागत बहाने
मुख्य दरवाजे से !

फ़िर छितराने लगी कद
घर की भींत के उपर से
गली की तरफ़
बेशर्म सी !

दादीमां ने कहा-
इस सियाले
छोरी के हाथ पीले कर ही दो !

राजस्थानी से अनुवाद: स्वयं कवि द्वारा