भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जशोदा तेरो लाल री वशी मे देवे गारी / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

जशोदा तेरो लाल री वंशी में देवे गारी।
जब हम जावें नीर भरन खों, रोके गैल हमारी।
जशोदा...
जब हम जावें दही बेंचन खों, मांगे दान मुरारी।
जशोदा...
जब हम जावें जल भरने खों, फोरे गगर हमारी।
जशोदा...
वाके गुण में कहा सुनाऊं, लाज लगत है भारी।
जशोदा...
तुम बरजो अपने कान्हा खों, न तो तजिहैं पुरी तिहारी।
जशोदा...