भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जहाँ देखो सियासत हो गई है / सुनीता काम्बोज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जहाँ देखो सियासत हो गई है
यही सबसे बुरी लत हो गई है

दुआ जाने लगी किसकी ये मुझको
मेरे घर में भी बरकत हो गई है

उड़ा देगा वह सारी ही पतंगे
उसे हासिल महारत हो गई है

रही इन्कार करती प्यार से ही
मगर वह आज सहमत हो गई है

बड़ा ख़ुदगर्ज़ निकला दिल हमारा
नई पैदा ये हसरत हो गई है

ये उसकी आँख में अब डर नहीं था
लगा उसको मुहब्बत हो गई है

चुनावी दौर का सारा असर ये
ग़रीबों की भी दावत हो गई है