भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़बीं पे गर्द है चेहरा ख़राश में डूबा / 'फ़ज़ा' इब्न-ए-फ़ैज़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़बीं पे गर्द है चेहरा ख़राश में डूबा
हुआ ख़राब जो अपनी तलाश में डूबा

क़लम उठाया तो सर पर कुलाह-ए-कज न रही
ये शहर-यार भी फ़िक्र-ए-मआश में डूबा

झले है पंखा ये ज़ख़्मों पे कौन आठ पहर
मिला है मुझ को नफ़स इर्तआश में डूबा

इसे न क्यूँ तेरी दिलदारी-ए-नज़र कहिये
वो नीश्तर जो दिल-ए-पाश-पाश में डूबा

‘फ़ज़ा’ है ख़ालिक-ए-सुब्ह-ए-हयात फिर भी ग़रीब
कहाँ कहाँ न उफ़ुक़ की तलाश में डूबा