भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़मीं पे चल न सका आसमान से भी गया / शाहिद कबीर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़मीं पे चल न सका आसमान से भी गया
कटा के पर को परिंदा उड़ान से भी गया

किसी के हाथ से निकला हुआ वो तीर हूँ जो
हदफ़ को छू न सका और कमान से भी गया

भुला दिया तो भुलाने की इंतिहा कर दी
वो शख़्स अब मिरे वहम ओ गुमान से भी गया

तबाह कर गई पक्के मकान की ख़्वाहिश
मैं अपने गाँव के कच्चे मकान से भी गया

पराई-आग में कूदा तो क्या मिला ‘शाहिद’
उसे बचा न सका अपनी जान से भी गया