भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़रूरत / साधना सिन्हा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


यह प्यार नहीं है
ज़रूरतें हैं
तुम्हारी मेरी
बच्चों की
जो, बांधे रखती हैं
तुमको–मुझको
बच्चों को

एक बंधन जो
कहलाता है अटूट
जाता है बन
अभ्यास अटूट
हम सबका
 
व्योम-विशाल
सिमटकर
बन कैदी
घर की
चार दीवारों का
हो जाता है
अपरिहार्य-अनिवार्य
जरूरत
रात-दिन की