भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़र्रा ज़र्रा मंज़र-ब-मंज़ी तिश्नगी / नज़ीर आज़ाद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़र्रा ज़र्रा मंज़र-ब-मंज़र तिश्नगी
अपने हिस्से में तो आई है सरासर तिश्नगी

ये भी देखा है सराबों से हुए सैराब लोग
पानियों के साथ भी बहती है अक्सर तिश्नगी

हो गई पल्कों से ही रूख़्सत वो मौज़ें ख़्वाब की
डेरा डाले है यहाँ आँखों के अंदर तिश्नगी

तुझ में गर बारिश समुंदर के बराबर है तो क्या
मेरे अंदर भी है सहरा के बराबर तिश्नगी

इस मोहज़्ज़ब शहर में आदाब हैं कुछ जश्न के
रक़्स करती है यहाँ नेज़ों के ऊपर तिश्नगी

क्यूँ हमारी छत के ऊपर बादलों का शोर है
क्या हमारे घर में जाएगी मुकर्रर तिश्नगी