भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़हर उतरने में थोड़ा-सा वक़्त लगेगा / डी. एम. मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़हर उतरने में थोड़ा-सा वक़्त लगेगा
रंग बदलनें में थोड़ा-सा वक़्त लगेगा

पहली बार गिरा हूँ यारो ग़श खाकर
मुझे सँभलने में थोड़ा-सा वक़्त लगेगा

जख़्म हमारा अभी तो बिल्कुल नया-नया है
इसको भरने में थोड़ा-सा वक़्त लगेगा

इतनी जल्दी क्यों फ़ैसला सुना दूँ अपना
कुछ भी कहने में थोड़ा-सा वक़्त लगेगा

अभी- अभी तो गये यहाँ से हैं बनजारे
शहर ये बसने में थोड़ा-सा वक़्त लगेगा

इतनी बेरहमी से तूने घर तोड़ा है
फिर से बनने में थोड़ा-सा वक़्त लगेगा