भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़िंदगी का बना सहारा भी / महेश चंद्र 'नक्श'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़िंदगी का बना सहारा भी
और उन के करम ने मारा भी

इश्क़ ही फिर पलट के आ न सका
हुस्न-ए-मग़रूर ने पुकारा भी

कौन डूबा जो यूँ पशेमाँ है
मौज-ए-तूफ़ाँ भी तेज़ धारा भी

हम ने दुनिया की राह पर चलते
दिल का होता अगर गवारा भी

उम्र भर तीरगी से खेले हैं
कोई हँसता हुआ सितारा भी

फूल रोते हैं ख़ार हँसते हैं
देख गुलशन का ये नज़ारा भी

दिल की दुनिया तो जगमगा उट्ठे
‘नक्श’ भड़के कोई शरारा भी