भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़िन्दगी की हँसी उड़ाती हुई / विकास शर्मा 'राज़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़िन्दगी की हँसी उड़ाती हुई
ख़्वाहिश-ए-मर्ग सर उठाती हुई

खो गई रेत के समन्दर में
इक नदी रास्ता बनाती हुई

मुझको अक्सर उदास करती है
एक तस्वीर मुस्कुराती हुई

आ गई ख़ामुशी के नर्ग़े में
ज़िन्दगी मुझको गुनगुनाती हुई

मैं इसे भी उदास कर दूँगा
सुब्ह आई है खिलखिलाती हुई

हर अँधेरा तमाम होता हुआ
जोत में जोत अब समाती हुई