भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़िन्दगी में हमें और क्या चाहिए / विष्णु सक्सेना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़िन्दगी में हमें और क्या चाहिए।
आपके इश्क का ही नशा चाहिए।

तू न आये तो आ जाऊँ मैं तेरे घर,
इसलिए मुझको तेरा पता चाहिए।

मेरा घर भी हो रोशन तुम्हारी तरह,
मेरे घर को तुम्हारी दुआ चाहिए।

ज़ख्म दिल के बहुत दिन से महके नहीं,
तेरे दामन मुझको हवा चाहिए।

दर्द की याद भी जिससे आये न फिर,
चारागर मुझको ऐसी दवा चाहिए।