भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़ेनिया एक-3 / एयूजेनिओ मोंताले

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: एयूजेनिओ मोंताले  » ज़ेनिया एक-3

पेरिस के सेंट जेम्स में
मुझे एक आदमी वाले कमरे की माँग करनी होगी
(वे अकेला मेहमान पसन्द नहीं करते !)
हू-ब-हू तुम्हारे बेनेशियन होटल के
नक़ली बेज़ेंटियम तौर-तरीक़ों की भाँति ।

और फिर तुरन्त बाद,
नीचे स्विचबोर्ड पर पहुँच कर लड़कियों का शिकार,
तुम्हारी पुरानी सहेलियाँ,
और उस पल को एक बार फिर पीछे छोड़ते हुए
तीन मिनट में ऊपर,

फिर वही,
तुम्हें पाने की चाह—
उसी एक भंगिमा में,
उसी एक आदत के साथ ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुरेश सलिल