भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जाँ लटक रये अनार बाग लै चलो रे लै चलो रे लिवा चलो रे / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाँ लटक रये अनार बाग लै चलो रे लै चलो रे लिवा चलो रे।
जाँ मोरे अनार बाग लै चलौ रे।
उनके गाल है गुलाब नींबू चोंख चलौ रे। जाँ लटके...
उनकी छतिया अनार बौंड़ी तोड़ चलौ रे। लै चलो रे...
उनकी जंघिया जबरदंग खम्भा भेंट चलौ रे। जाँ लटके...
बामें कछु हरी हरी दूबा जमे रे। लै चलो रै...
जौ नों दिवान साब कौ घोड़ा छूटौ रे।
दूब चरै खुरी धरै गैल करे रे। जाँ लटके...