भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जाऊं हूं जी जाऊं हूं / गगन गिल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाऊं हूं जी जाऊं हूं
रस्ते अकेले पे
लौटे बिना ही कहीं
दूर चली जाऊं हूं
चुप हूं जी बहुत चुप
चाबी फेंक ताले बंद
सुख में है अपना जी
भटका करे था बहुत
बच गई जी बच गई
किसी घने दुख से
बच गई
देखा भले न था
पहचानूं पहचानूं थी
कभी कभी निकलूं थी
खोल से गुपचुप बाहर
उसमें भी नोंच दें थे
पंजे, नाखून और डंक
दुनिया-दुनिया का क्या जी
मैल थी मलाल थी
आरी चलाती जी पे
जी का जंजाल थी
जाऊं हूं जी जाऊं हूं
बीहड़ निराले में
शेर के पेट में ही
बैठी दूर जाऊं हूं...