भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जाओ बादल / सरोजिनी कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चूर हो गए होंगे थककर,
जाओ बादल अब अपने घर!

तुमने शीतल जल बरसाया,
तपती धरती को सहलाया,
बूँदों में अमृत बरसाया,
झर-झर, झर-झर, झर-झर, झर-झर!
जाओ बादल अब अपने घर!

फिर तुमको सूझी शैतानी,
सबको दुख देने की ठानी,
बरसाया जोरों का पानी,
सारे के सारे कपड़े तर!
जाओ बादल अब अपने घर!

गड़गड़ कर फिर गरजे भारी,
फैली धरती पर अँधियारी,
बिजली की चमचम थी न्यारी,
लगे काँपने बच्चे थर थर!
जाओ बादल अब अपने घर!