भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जागि रे सब रैण बिहाणी / दादू दयाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जागि रे सब रैण बिहाणी।
जाइ जनम अँजुलीको पाणी॥टेक॥

घड़ी घड़ी घड़ियाल बजावै।
जे दिन जाइ सो बहुरि न आवै॥१॥

सूरज-चंद कहैं समुझाइ।
दिन-दिन आब घटती जाइ॥२॥

सरवर-पाणी तरवर-छाया।
निसदिन काल गरासै काया॥३॥

हंस बटाऊ प्राण पयाना।
दादू आतम राम न जाना॥४॥