भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जागो और जगाओ / अब्दुल रहमान सागरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जागो और जगाओ!
बीत चुकीं आलस की घड़ियाँ,
जाग उठीं अब सारी चिड़ियाँ!
जागे फूल खिली अब कलियाँ!

तुम भी जागो आओ,
जागो और जगाओ!

जाग रहा है कोना कोना
फिर अपना यह कैसा सोना!
क्या सोकर है सब कुछ खोना!

उठो होश में आओ!
जागो और जगाओ!

जागे तुर्क, उठे जापानी,
सँभल चुके हैं अब ईरानी!
तुमको है कैसी हैरानी!

आगे कदम बढ़ाओ!
जागो और जगाओ!