भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जागो नहीं जाग जल भारी / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जागो नहीं जाग जल भारी।
बहुतक दंद-फंद तुमें सूझे काल कर्म की राह संभारी।
अब कह जाब राव किहि के ढिंग बिन दीपक नहि मिटे अंधयारी।
तिर नहीं रहो बहौ भौसागर हेरे नहि हर राम निहारी।
बंधन परो रहो अपने विधि भेद बिना भम्र सके न हारी।
जुड़ीराम शब्द बिन चीन्हें बे सतसंग न जीव सुखारी।