भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जाड़ा गिरते भोरे घामा बइठल खोंखेली काकी / रामरक्षा मिश्र विमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाड़ा गिरते भोरे घामा बइठल खोंखेली काकी
बेटा बेटी खातिर तिलवा मेथी फोरेली काकी

लाल सजाव दही चिउरा पर गुर के भेली खूब जमे
खिचड़ी का दिन पंडीजी के थाल परोसेली काकी

बरिसन से बड़का ना लउकल ससुरारी में बइठल बा
सुसुकत रोजे याद करेली अँखिया पोंछेली काकी

बेमतलब के खरचा पर अनसाली, भितरे कुहुँकेली
अनदीना का डर से पइसा पइसा जोरेली काकी

नवकी कोबी के तरकारी जहिया चटक बनावेली
कहँवा गइल,विमलवा’ भीतर बहरी खोजेली काकी