भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जातरा जतना री / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थळ में
हुवै या जळ में
जातरा जतना री हुवै
माणस भरमीजै
सगती रै परवाणै
पण
काठ री नाव
ठाठ री जातरा
जळ रै पेटै।

मिनखां री जोट
मुरथल में
नीं टोर सकै
चप्पूवंती नाव
झील ई बगै
सणै नाव
उंचायां माणस जोट
पुगावण परलै पार
अदीठ नै
दीठ में उतारती।