भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जाति जाती / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओ जाति!
तू जाती क्या
बेड़ियाँ तोड़
बंधन मुक्त कर
तू जाती क्या
ओ जाति!
मत बहरी वन
अबे ओ जाति
तू जाती क्या
बामन के घर
उसकी महरारू से पूछने
तेरा जनेऊ हुआ क्या?