भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जात घनश्याम के ललात दृग कंज-पाँति / जगन्नाथदास ’रत्नाकर’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जात घनश्याम के ललात दृग कंज-पाँति
घेरि दिख-साध-भौंर भीरि की अनी रहै ।
कहै रतनाकर बिरह बिधु बाम भयौ
चन्द्रहास ताने घात घायल घनी रहै ॥
सीत-घाम बरषा-बिचार बिनु आने ब्रज
पंचवान-बानि की उमड़ ठनी रहै ।
काम बिधना सौं लहि फरद दवामी सदा
दरद दिवैया ऋतु सरद बनी रहै ॥90॥