भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जादू सो कर गई हेरन में / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जादू सो कर गई हेरन में
दुरवारी दृग की फेरन मैं।
जों मरतेज, तेज चितवन कौ,
सो नइँयाँ समसेरन में।
उड़त फिरत जैसें मन पंछी
गिरत बाज के घेरन में।
जब कब मिलत गैल खोरन में,
तिरछी नजर तरेरन में।
कहत ईसुरी सुन लो प्यारी,
तनक सेन की टेरन मैं।