भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जानना चाहता हूँ मैं / नीरज दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूरज-चांद की गुड़कती गेंदों पर
नहीं रीझूंगा मैं
जानना चाहता हूँ मैं
कि शेषनाग के फन पर टिकी हुई है
या किसी बैल के सींगों पर
यह धरती !

जानना चाहता हूँ मैं
कि मेरी जड़ें ज़मीन में है
या आकाश में
किसी डोर से
बंधा हुआ हूँ मैं ।

जानना चाहता हूँ मैं
मैं वन-वन भटकूंगा
या पंख लगा कर उड़ूंगा
आकाश में
किसी अन्य की आँख से ।

जानना चाहता हूँ मैं
किसी बैया राजा की
टांगों पर है
या किसी कृष्ण की अंगुली पर
यह आकाश ।
बिरखा-बादली या इन्द्रधनुष से
नहीं रीझूंगा मैं
जानना चाहता हूँ मैं ।

अनुवाद : मोहन आलोक