भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जानवर / कुमार अजय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे अन्दर
एक जानवर है
जो मेरे
अन्दर के आदमी को
सताता है
धमकाता है
और डराए रखता है

फिर भी कई बार
मेरे अन्दर का आदमी
उस दरिंदे की
ज़रूरत महसूस करता है।

जंगल में रहना
मुश्किल है शायद
जानवर हुए बिना !


मूल राजस्थानी से अनुवाद : मदन गोपाल लढ़ा