भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जाने कब से है मिरे कांधों पर / ओम प्रभाकर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाने कब से हैं मिरे काँधों पर
हाथ किसके हैं मिरे काँधों पर?

गुज़री फ़स्लों के ज़र्द वर्ग़ो गुल
झड़ते रहते हैं मेरे काँधों पर।

रोज़ो-शब हैं कि दो थके पंछी
कब से बैठे हैं मिरे काँधों पर।

डूबी शामों में वो जुड़वा लम्हे
आ के ठहरे हैं मिरे काँधों पर।

अर्सा गुज़रा, मगर तिरे गेसू
अब भी बिखरे हैं मिरे काँधों पर।

शब्दार्थ :
ज़र्द वर्गो गुल= पीले पत्ते और फूल