भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

जाने क्या दुश्मनी है शाम के साथ / 'अना' क़ासमी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाने क्या दुश्मनी है शाम के साथ
दिल भी टूटा पड़ा है जाम के साथ

लफ़्ज़ होने लगे हैं सफबस्ता[1]
कौन उलझा ख़्याले-ख़ाम[2]के साथ

काम की बात बस नहीं होती
रोज़ मिलते हैं एहतमाम के साथ

कितना टूटा हुआ हूं अन्दर से
फिर कमर झुक गयी सलाम के साथ

बज़्म[3]आगे बढ़े ये नामुमकिन
मुक्तदी[4]उठ गये इमाम[5] के साथ

इन्क़लाब अब नहीं है थमने का
शाहज़ादे भी हैं गुलाम के साथ

बेतकल्लुफ़ बहस हों मकतब[6]में
इल्म घटता है एहतराम के साथ

शब्दार्थ
  1. पन्तिबध
  2. बेकार के ख्याल
  3. गोस्ठी
  4. पीछे नमाज़ पढ़ने वाले
  5. नमाज़ पढ़ाने वाला
  6. क्लास