भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जाने जां जाना ही है तो जाइए / मधुप मोहता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाने जां जाना ही है तो जाइए
जाते जाते जान भी ले जाइए

दिल है ख़ाली अमावास का आसमां
आइये, अब आप तो आ जाइए

चांदनी, बरसात, खुशबू, कहकशां
कोई भी सूरत हो ,आ तो जाइए

नाराज़ हैं तो राज रहने दीजिये
राज़ हैं तो दिल में घर कर जाइए

याद करके मुस्कुराना सीखिए
याद बन कर दिल में अब बस जाइए