भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जाने जाने की बात करते हो / गणेश बिहारी 'तर्ज़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाने जाने की बात करते हो
क्यूँ सताने की बात करते हो

प्यार मिलता है प्यार देने से
किस ज़माने की बात करते हो

छीन कर मुस्कुराहटें ख़ुद ही
मुस्कुराने की बात करते हो

बिजलियाँ रख के आशियाने में
घर बनाने की बात करते हो

जान-ओ-दिल ले लिये मगर फिर भी
आज़माने की बात करते हो

आई मंज़िल तो फिर पलट आया
किस दीवाने की बात करते हो

तुम भी ऐ 'तर्ज़' खूब हो दिल से
दिल लगाने की बात करते