भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जान अपनी दे कर भी ज़िंदगी कमा लाया / हस्तीमल 'हस्ती'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जान अपनी दे कर भी ज़िंदगी कमा लाया
पत्थरों की बारिश से आईना बचा लाया

एक-इक ख़ुशी दे दी संग दिल ज़माने को
बच रहे थे ग़म उनको मेरा दिल उठा लाया

ज़िंदगी ने हँस-हँस के देखा ये तमाशा भी
लोग आँधियाँ लाए और मैं दिया लाया

आ गया था थाली में स्नेह सारी दुनिया
मेरा भाई जब खाना माँ के हाथ का लाया

ज़िन्दगी के मेले में मन भटक गया `हस्ती'
क्या हमें दिखाना था क्या हमें दिखा लाया