भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जान न देहौं सजन खों जान न देहौं / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जान न देहौं सजन खों जान न देहौं।
घुँघटन में विलमाहौ सजन खों जान न देहौं।
नैनन में विलमाहौ सजन खों जान न देहौं। अरे जान न...
चोली में समाहौ सजन खों सजन खों जान न देहौं।
अंकन में समैटो सजन खों जान न देहौं।
जान न देहौं सजन खों जान न देहौं।