भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जापे कृपा राम राया की / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जापे कृपा राम राया की।
क्या कर सके कुसंग जगत को व्यापे नहीं मार माया की।
जो लग काल-कर्म अरुझानों तो लग डोर लगी काया की।
पड़ी रही मैदान महर में धुनिन होय फिर बे वाजा की।
जूड़ीराम नाम तन ताको बैठो सदा भगत छाया की।