भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जामुन / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

है जामुन क्या काली काली।
लसी हुई है डाली डाली
ठहरो ऊपर जाऊंगा मैं।
डालें पकड़ हिलाऊंगा मैं।
बरस पड़ेंगी पट पट पट पट
अच्छी अच्छी बिनना झटपट
चले चलेंगे नदी किनारे।
धो धो कर खायेंगे प्यारे
अलग छांट कुछ लेनी होंगी
घर चल माँ को देनी होंगी
क्योंकि जीभ जब दिखलायेंगे।
मुन्नी को हम ललचायेंगे।
तो उदास उसका मुंह लखकर
तुरत कहेगी माँ गुस्साकर।
फ़ौरन भागो बाग में जाओ।
बेटी को भी जामुन लाओ।