भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जामै हरियाळी / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थार परवानै
वायरियै
मांड्यो खत
लिखी गत
बांचै सुरजी
सुणै कद
पिव बादळ ।

मुरधर
सदा सुहागण
उडीक पसारै
उण रै आंगण
जामै हरियाळी
बाजै थाळी ।