भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जारे राजा जारे राजा राजा नीली घोड़ा के सिंगारो रे / कोरकू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

जारे राजा जारे राजा राजा नीली घोड़ा के सिंगारो रे
जारे राजा जारे राजा राजा नीली घोड़ा के सिंगारो रे
चलो मायू चलो मायू माय मेरी रानी को निभाई लेवो
चलो मायू चलो मायू माय मेरी रानी को निभाई लेवो
नहीं रे बेटा नहीं रे बेटा बेटा मोरो घेरु रे सूना है रे
नहीं रे बेटा नहीं रे बेटा बेटा मोरो घेरु रे सूना है रे
चलो डायनी माय चलो मायू माय तेरे लेने सवारी ना लायो
चलो डायनी माय चलो मायू माय तेरे लेने सवारी ना लायो
हारे बेटा हारे बेटा बेटा मोरो मुसरा रे ठाड़ी लेवो
हारे बेटा हारे बेटा बेटा मोरो मुसरा रे ठाड़ी लेवो
चलो वो डायनी माय चलो मायू माय तेरा मूसरा वो साड़े बारा
चलो वो डायनी माय चलो मायू माय तेरा मूसरा वो साड़े बारा
चलो वो डायनी माय चलो मायू माय मेरी रानी को निभाई लेरे
चलो वो डायनी माय चलो मायू माय मेरी रानी को निभाई लेरे
एको जा जाय धरती डालो माय एकी जा पाय आगशो डाले
एको जा जाय धरती डालो माय एकी जा पाय आगशो डाले

स्रोत व्यक्ति - पार्वती बाई, ग्राम - मातापुर