भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जा दुनिया आबाद बनी रय / महेश कटारे सुगम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जा दुनिया आबाद बनी रय ।
सुख कौ पानी खाद बनी रय ।

उम्मीदें पूरी करवे खौं,
आस और औलाद बनी रय ।

इज़्ज़त में कोउ दाग न लगवै,
साख नाक मरजाद बनी रय ।

करवे की लौ बुझ नईं पावै,
हिम्मत जा फौलाद बनी रय ।

गिरवे कौ डर बिलकुल नईंयाँ,
फिर उठवे की साध बनी रय ।

सुगम कभऊँ जी अच्छौ करवे,
मीठी मीठी याद बनी रय ।