भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिउ हमार जुड़ुवाये हैं / भारतेन्दु मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिउ हमार जुड़ुवाये हैं
ह्यांवत के दिन आये हैं।

लत्ता तन के फाटि रहे
कइसेव दिन हम काटि रहे
तपता बिनु चिनगिउ बुझिगै
क्वइरा के दिन आये हैं।

राम-जोहरार न कइ पायेन
मतलब सिद्ध न कइ पायेन
थूकू निगिल लेइति है अब
चुप्पी के दिन आये हैं।

भूलि गये मोलहे दादा
भूलि गये रामू काका
करजौ कोऊ देति नहीं
अइसन दुरदिन आये हैं।