भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिओ काल में / आन्द्रेय वाज़्नेसेंस्की

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(जि. कोजिरेव के लिए)

दिक् में नहीं बल्कि जिओ काल में।
तुम्‍हें सौंपे गये हैं क्षण-वृक्ष
वन-संपदा के नहीं, मालिक वनो क्षणों के
गुजार दो यह जिंदगी क्षण-गृहों में!

कीमती फर के बदले
पहनाओ अमूल्‍य क्षण!

एकदम बेडौल है काल :
अंतिम घड़ियाँ जितनी छोटी
उतने ही लंबे विछोह के पल।

तौल के बट्टे खेलते हैं आँखमिचौनी।
तुम शतुरमुर्ग तो हो नहीं
कि छिप सको मिट्टी में।

मरते हैं दिक् में
जिया जाता है काल में।